कोचिन पोर्ट ट्रस्ट
प्रायद्वीपीय भारत के लिए समुद्री मार्ग
घर >> एसपीएम प्रचालन
विशेषताएँ
  • जलवायु & ज्वारीय सूचना
  • एसपीएम प्रचालन
  • पोर्ट लेआउट

जलवायु & ज्वारीय सूचना

जलवायु तथा मौसम विज्ञान

ताप एवं आर्द्रता
                  कोचिन में ताप करीब 220 से 310 सेन्टीग्रेड तक बदलता रहता है । ताप में सुस्पष्ट मौसमी परिवर्तन नहीं हो रहा है जो वर्ष भर में लगभग समान रहेगा । यद्यपि उच्चतम ताप मार्च से मई तक होगा ।  आर्द्रता वर्ष भर में ऊँचा रहेगा । यह शीतकालीन महीने में करीब 75% रहेगा और वर्षा अवधि में करीब 90% रहेगा

तूफ़ान और चक्र्वात

                  तूफ़ान वेगता और तूफ़ान की दिशा मौसम के आधार पर और भूमि तथा समुद्र के बीच में ताप में होनेवाले अंतर से मालूम हो जाता है । वर्षा अवधि में अर्थात्  जून से सितम्बर तक प्रबल तूफान दिशा पश्चिम से दक्षिण- पश्चिम और भूमि समीर का प्रभाव इस अवधि में प्रबल नहीं होगा । गैर -वर्षा अवधि में प्रबल तूफ़ान दिशा सबेरे उत्तर-पूर्व से होगी और  शाम को पाश्चिम से होगी जिससे भूमि समीर का प्रभाव दर्शाया जाता है ।  निरीक्षित  अधिकतम तूफ़ान वेगता पाश्चिम दक्षिण - पाश्चिम दिशा से 112 की. मी.प्रति घंटा है । कोचिन  चक्रवात  बेल्ट के परे होने के कारण चक्रवात  का जोखिम नगण्य है ।

वर्षा

                  वर्षा अवधि में  अर्थात् जून् से सितंबर  तक अधिकतम वर्षा होती है ।   इस क्षेत्र  में वार्षिक  रूप से 2500 से 3500 मी.मी. तक वर्षा होती है ।

समुद्र वैज्ञानिक आंकड़ा

ज्वार भाटा
              कोचिन में अर्ध दैनिक ज्वार भाटा आते रहते हैं । नेवल हैड्रोग्राफिक चार्ट सं. 2004 के अनुसार  ज्वार भाटा लेवल निम्न प्रकार है ।.
एमएचएचडबल्यूएल+1.20 मी
एमएचएचडबल्यूएल+ 0.80 मी
एमएसएल + 0.60 मी
एमएचएलडबल्यूएल+ 0.60 मी
एमएलएलडबल्यूएल+ 0.30 मी
                   उपर्युक्त लेवल पोर्ट के चार्ट ड़ाटम से संबंधित है, जो खगोलीय ज्वार-भाटे के न्यूनतम लेवल है ।

प्रवाह

                  कोचिन तट के प्रवाहों में ज्वार भाटा, लहर और तूफान उत्प्रेरित घटक है । निरीक्षणों के अनुसार गैर-वर्षा अवधि के दौरान कोचिन  नाली में अधिकतम प्रवाह शीघ्रता 3 नोट है जो वर्षा ऋतू में 5.5 नोट तक वर्द्धित हो सकता है । हार्बर के अंदर प्रवाह शीघ्रता कम है, केवल 0.5 नोट है जिसकी दिशाएं विभिन्न स्थानों में भिन्न होगी ।

लहर

                  लहर जलवायु का नियंत्रण दक्षिण पश्चिमी वर्षा ऋतु द्वारा होता है  जब लहर प्रवर्तन चालू उत्तर - पश्चिम से दक्षिण - पश्चिम तक चालू  लहर दिशा के साथ कठोर बन जाता है । पूर्व में गहरे जल ( 15 मी. ) लहर निरीक्षण 10 मी. , 5 मी. और 2 मी. के जल ग़हराई में  क्रमश : 4 मी. 2 मी और 1 मी का सार्थक लहर ऊँचाई दर्शाता है । प्रबल लहर दिशा पश्चिम होगी । कोचिन नाली और फोर्टकोचिन के बीच में संकीर्ण प्रवेश द्वार और भूमि की आकृति के कारण हार्बर के अंदर लहर                  प्रवर्तन निरर्थक है ।  अधिक तूफान प्रवर्तन समय के अलावा वर्ष भर में  साधारण रूप से स्वच्छ स्थिति मिल रही है।

बैथीमेट्री

                  समुद्र तल समुद्र की ओर  ढालू होता है और जो 500-600 में करीब 1  है ।  तट  में तटीय प्रवाह होता है लेकिन मिट्टी बैंक उत्पन्न होता है ।  मिट्टी बैंक अचल  नहीं है और तटीय क्षेत्र की ओर जाने की प्रवृत्ति है ।

ज्वारीय धारा (प्रवाह )

                  स्प्रिग्स में भाटा प्रवाह का अधिकतम दारा वर्ष भर में 2 से 3 नोट और नीप्स में 1/2 से 11/2 नोट है  ।
भाटा प्रवाह स्प्रिग्स2 - 3 नोट
भाटा प्रवाह नीप्स1/2 to 11/2नोट
बाढ़ प्रवाह स्प्रिग्स 11/2 - 2 नोट
बाढ़ प्रवाह नीप्स1/2 to 11/2नोट
                  ऊँचे और नीचे जल में निर्धारित समय के बाद दोनों प्रवाह कुछ समय के लिए चलता है ।   बाढ में 2 घंटे और 2-3 घंटे भाटे में  ।  भारी अंतर्देशीय वर्षा के बाद भाटा प्रवाह कई दिनों तक लगातार चलेगा लेकिन बाढ़ प्रवाह हार्बर में भूतल भाटे  के नीचे प्रवेश करता है ।

लवणता

                  हार्बर के अंदर लवणता 1000 से 1025 तक रहता है जो मौसम और ज्वार -भाटे की स्थिति के अनुसार है । घोषित अधिकतम गहराई नमक -जल सघनता का आधार है ।

ऊपर

कोचिन पोर्ट में एस.पी.एम. प्रचालनों पर  सूचना

स्थान:  मेसर्स. बीपीसीएल (केआर) का सिंगिल पॉइंट मूरिंग लाटिट्यूड 09o 59' 49.93" उत्तर ; कोचिन पोर्ट की सीमाओं के अंदर लोंजिट्यूड  076o 02' 30.73" पूर्व में स्थित है ।

स्वीकार्य वेसल पैरामीटर
पैरामीटरन्यूनतम अधिकतम
समग्र लंबाई (एलओए)229 मी370 मी
मानिफ़ोल्ड को लंबाई (बीटीएम)80 मी220 मी
स्थानांतरण77,000 M/T340,000 एम/टी
गहराई  (नमक जल) 22.5 मी
बीम 58 मी
बो मूरिंग फेयरलेड में फ्रीबोर्ड 26 मी
मानिफ़ोल्ड में फ्रीबोर्ड  24 मी

एस. पी. एम. में बर्थिंग के लिए जलयानों की स्वीकार्यता

                  बी. पी. सी. एल. ( केआर ) ने एस.पी.एम. में पहुंचनेवाले जलयानों के लिए एक प्रश्नावली तैयार की है और उसकी एक प्रतिलिपि या जलयान का ' क्यू 88 ' इस कार्यालय को भेज दें हार्ड कॉपी में या ई-मेल द्वारा hm@cochinport.gov.in और जलयान की विशेषताओं पर संवीक्षा करके स्वीकार्यता दी जाएगी ।

लंगरगाह :

                एसपीएम में निकासी  के लिए आनेवाले जहाजों को एसपीएम के दक्षिण में 2.5 मील लंगर डालना             चाहिए  ।

पाइलट बोर्डिंग :

                जल के करीब 4.5 मी . ऊपर पोत सीढ़ी द्वारा अनुवात पार्श्व पर टग बोट से पाइलट चढ़ेगे ।  जहाजों का दोनों सीढ़ी झूलने के लिए और  निचला करने के लिए तैयार रखना है ।  टग पास में आने पर पाइलट को चढ़ने के लिए सीढ़ी निचला करना है ।    बुरी मौसम के दौरान एक पाइलट सीढ़ी या कार्मिक टोकरी का उपयोग करना चाहिए ।

कन्हारी :

                बोये को 2.5 मील दूरी पर पोर्ट पाइलट टैँकर में चढ़ेगा और पाइलट/वीएचएफ़ पर पोर्ट नियंत्रण द्वारा टैँकर को उचित निदेश दिए जाएंगे ।  यह पाइलट मूरिंग तथा  पुल बॉक प्रचालनों की पूर्ती के बाद टैँकर पर रहेगा और वही पाइलट टैँकर छोड़कर वापस आएगा । पाइलट टैँकर में ही रहने के कारण पहले टैँकर की यात्रा के लिए पाइलट को बुक करना निर्णायक नहीं है ।  फिर भी बर्थिंग बैठक में चलन घोषित करना है जो कि शिप्पिंग कार्यक्रम में दिखाई पड़ें ।

संप्रेषण :

                कोचिन पोर्ट नियंत्रण वीएचएफ़ चैनल 15 पर काम करता है और  चैनल 16 एवं 15 का निरीक्षण करता            है ।  एसपीएम में टगों के साथ सम्प्रेषण और बी पी सी एल नियंत्रण चैनल 13 में होगा ।

मूरिंग प्रबंधन :

                दो 76 एम एम चेइनों ( ओ सी आई एम एफ़ टाइप बी ) के उपयोग से जलयान का एसपीएम में मूरिंग किया जाएगा ।  जहाज़ का अग्रभाग रोधकों और फेयरलेड्स की ओर घूमने का संदेशक लाइनों के साथ दो स्वतंत्र मूरिंग बोटों में पास करने के लिए गलही टूटने पर सहारा के रूप में प्रवृत्त जलयान ।

मूरिंग / गैर मूरिंग प्रतिबंध :

                एसपीएम में टैँकरों का मूरिंग केवल दिन घंटों में ही किया जाएगा, इसलिए जलयान पहुंचकर 1600 घंटों के पहले पाइलट को चढ़ाना है जो कि बर्थ करने योग्य बने । इसके बाद आनेवाले जलयान अगले दिन के प्रारंभिक प्रकाश में  बर्थ किया जाएगा ( पाइलट चढाव 06 00 घंटे )  । गैर-मूरिंग प्रचालन सभी समय पर  किया जाएगा और पाइलट जलयान में ही होने के कारण जलयान यात्रा के लिए तैयार होने से ही प्रचालन शुरू करेगा ।

होस संबद्ध :

                टैँकर के पोर्ट साइड मानिफ़ोल्ड पर 16 इंच के दो  होस संबद्ध किया जाएगा । एस पी एम में पहुंचते समय होस संबद्ध करने का  गियर / क्रू टैँकर पर चढ़ेगा और गियर लिफ्ट करने के लिए जलयान का क्रेन उपयोग किया जाएगा ।

टग संचलन :

                50 टन बोल्लार्ड पुल के किराए में लिए गए दो टगों का उपयोग एसपीएम प्रचालनों के लिए किया गया ।

                भीतरी हार्बर से दोनों टग इनबाउन्ड टैँकर की ओर अग्रसर होगा जो पाइलट चढ़ने के दो घंटे पहले है । सभी प्राधिकारियों , सर्वेक्षकों और अन्य व्यक्तियों जो  टैँकर में चढ़ने के लिए अनिवार्य हो, नियुक्त समय के पहले  टग में होना चाहिए ।

                मूरिंग प्रचालनों की पूर्ती के बाद पुल बॉक प्रचालन के लिए एक टग टैँकर में रहेगा और माल प्रचालनों की पूर्ती पर  एसपीएम से टैँकर का गैर -मूरिंग और पाइलट को उतारने के बाद वापस           आएगा ।

                टैँकर के मूरिंग के बाद दूसरा टग वापस आएगा ।

तट कार्मिक के टैँकर में चढ़ना :

                टैँकर में चढ़नेवाले तट कार्मिक को उचित पहचान होना चाहिए जो आईएसपीएस कोड द्वारा अनिवार्यता के अनुसार प्रदर्शित करना है ।

                बाहरी हार्बर में इन जलयानों में चढने के लिए होनेवाली तकलीफ तथा  खतरे के बारे में इन व्यक्तियों को जागरूक होना चाहिए । पाइलट सीढ़ी द्वारा  चढ़ने के लिए योग्य    ( अगर समुद्री व्यवस्था माँगने पर ) व्यक्तियों को ही टैँकर में भेजा जाए

                जलयान प्रचालनों में सीधे शामिल होनेवाले निम्न व्यक्तियों को ही भाड़े में लिए गए टगों के उपयोग के लिए वे लोग जहाज़ी प्रचालनों पर रहते समय अनुमति दी जाएगी ।

  • पोर्ट पाइलट
  • समुद्री मास्टर सहित बीपीसीएल ( केआर) से प्रतिनिधियां
  • जहाज़ एजंटों के प्रतिनिधि
  • सीमाशुल्क से प्रतिनिधियां
  • अप्रवासियों से प्रतिनिधियां
  • माल सर्वेक्षक

                पोर्ट नियंत्रण से पूर्वी अनुमति के आधार पर उपर्यूक्त सूचित व्यक्तियों के अलावा एसपीएम प्रचालन के लिए अनिवार्य होने पर अन्य व्यक्तियों को टग में  चढने की अनुमति दी जाएगी ।

                टैँकर में / से स्थानांतरण  मांगनेवाले व्यक्तियों द्वारा दूसरा टग का उपयोग  किया जाए ।  यद्यपि यह महसूस करना चाहिए कि टग मुख्य रूप से मूरिंग प्रचालनों के लिए है और इन टगों का प्रस्थान विलंबित नहीं किया जा सकता ।  टगों के लिए प्रतीक्षित नहीं रहना चाहिए  और ये प्रस्थान करने के पहले किसी भी व्यक्ति  पहुंच नहीं सका तो अलग प्रबंधन करना है । यह भी समझना  चाहिए कि यह वाहन उपयोग किए जानेवाले व्यक्ति अपने ही जोखिम में ऐसा करना है और टैँकर से या टैँकर में परिवर्तन के लिए टगों का उपयोग करने पर कोई हानी पहुंचने पर पोर्ट केलिए कोई उत्तरदायित्व नहीं होगा । टगों के उपयोग के लिए भाड़ा प्रभार जलयान द्वारा मूरिंग तथा गैर - मूरिंग प्रचालनों के अलावा अन्य किसी उद्देश्य के लिए होने पर वसूल किया जाएगा ।

                टैँकर में रहनेवाले तट कार्मिक  :   निम्न व्यक्तियां टैँकर में रहेंगे ।  एसपीएम में रहने के लिए जलयान द्वारा आवास तथा भोजन उपलब्ध करना है ।

पोर्ट पाइलट1 सं. 
बीपीसीएल (केआर) बोर्डिंग अधिकारी1 सं.अधिकारी
मराइन मास्टर1 सं.आवास
माल सर्वेक्षक1 सं. 
होस हस्तन क्रू  5 सं. 

                जलयान निकासी के लिए दस्तावेज़ : पोर्ट तथा लंबे बोट सवारी से एसपीएम का दूर देने पर पोर्ट पाइलट या जहाज़ के मास्टर द्वारा अनुप्रमाणित किए जहाज़ के दस्तावेज़ की प्रतिलिपियां एजन्टों द्वारा उपलब्ध करना है ।   यह बाहरी निकासी के लिए  मूल दस्तावेज़ के बदले में है ।

                आगे स्पष्टीकरण अगर कोई है तो  हार्बर मास्टर ( hm@cochinport.gov.in)  देखिए ।

ऊपर

Click for Enlarged View